ArpitGarg's Weblog

An opinion of the world around me

सायोनारा: अलविदा सैंट पीटर्स

with 7 comments

My farewell speech 12 Std, St. Peters College Agra, 2003.

कुछ बीती बातों का छोड़ रहा हूँ फव्वारा,
सायोनारा|
दिल कि डायरी का है यह सार सारा,
सायोनारा|
इस कविता में अपनी पहचान ख़ुद से है करारा यह बेचारा,
सायोनारा|
सुबह घंटी बजने के ५ मिनट बाद नियमपूर्वक क्लास में है आरा,
सायोनारा|
बिना पास के साइकिल स्टैंड वाले को दस रुपये का किया इशारा,
सायोनारा|
बिन पॉलिश के जूतों और लंबे बालों को लिए क्लास में है घुसा जारा,
सायोनारा|
डायरी न लाने पर एक दोस्त के कवर व बाकी से पन्ने लेकर असेम्बली में जाने की जुगाड़ है बिठारा,
सायोनारा|
एडवर्ड सर की नजरों से बचने के लिए गंदे जूते पैंट से है घिसे जारा,
सायोनारा|
छोटे कद का होकर भी असेम्बली की लाइन में सबसे पीछे है लगा जारा,
सायोनारा|
प्रयेर के टाइम पे गर्लफ्रैंड के किस्से है सुनारा,
सायोनारा|
नेशनल ऐनथम के दौरान अटेंशन में नहीं खड़ा हुआ जारा,
सायोनारा|
‘गुड मोर्निंग टीचर’ को के.एल. सहगल के गीत की तरह है सुनारा,
सायोनारा|
पहले ही पिरिएड में टिफिन का लिया चटकारा,
सायोनारा|
चुपके से दूसरे कि बोतल से पानी है पिया जारा,
सायोनारा|
लीव ऐप्लीकेशन न लाने पर जल्दी से मम्मी-पापा का साइन है किया जारा,
सायोनारा|
बिना सिलेबस कि किताबों के भी नोविल्स के बोझ से बैग है फटा जारा,
सायोनारा|
बोरिंग लेक्चर के बीच नींद में डूबा जारा और पकड़े जाने पर घिसा पिटा राग सुनारा,
सायोनारा|
मॉरल साइंस के पिरिएड में फादर के संग ठहाके है लगारा,
सायोनारा|
इंगलिश के पिरिएड में में मैथ का काम है किया जारा,
सायोनारा|
मैथ का पिरिएड आने पर सिस्टर ऑफिस भागा जारा,
सायोनारा|
एग्जाम से पहले बैठकर महनत से फर्रे है बनारा,
सायोनारा|
टीचर के सिर को एरोप्लेन की लैंडिंग प्लेस है बनारा,
सायोनारा|
चुन-चुन कर दूसरों पे रबड़ में फंसाकर बुलेट है बर्सारा,
सायोनारा|
पंखे, ट्यूबलाईट और, बल्ब को चॉक का निशाना है बनारा,
सायोनारा|
तबियत ख़राब होने का बहाना बनाकर घर को भगा जारा,
सायोनारा|
फ़ुटबाल मैच में सामने वाले को धक्का देकर गिरारा और ख़ुद गिरने पर बाहर मिलने का न्योता देकर आरा,
सायोनारा|
जूनियर साइड में नल की लाइन पर जाकर छोटे बच्चों को है हड़कारा,
सायोनारा|
इंटरवल की घंटी बजने पर खिड़की से है कूदा जारा,
सायोनारा|
कैंटीन में ५ रुपये में दो पैटी लेकर अपनी बुद्धि को है इतरारा,
सायोनारा|
औरों की बर्थडे की ट्रीट खाकर अपनी बर्थडे के दिन स्कूल में न दिया नज़ारा,
सायोनारा|
एब्सेंट होने पर रोज नया बहाना बनरा,
सायोनारा|
कैंटीन की भीड़ में अपनी शक्ति का पूरा जोर दिखारा,
सायोनारा|
दूसरे के बर्गर के चिथड़े कर फूले नहीं समारा,
सायोनारा|
दो दोस्तों के बीच डब्लू.डब्लू.एफ करवाकर मंद-मंद मुस्करारा,
सायोनारा|
क्लास से बंक मारकर पूरे स्कूल में गश्त है लगारा,
सायोनारा|
पीछे बैठकर दोस्तों से गप्पें है लडारा,
सायोनारा|
एग्जाम में आगे वाले को आन्सर बताने के लिए पटारा और न बताने पर उसे भूखे शेर कि तरह है घूरे जारा,
सायोनारा|
केमिस्ट्री लैब में नाइट्रिक एसिड से घर की टकसाल के सारे सिक्के है चमकारा,
सायोनारा|
विभिन्न रसायनों को मिला सतरंगी चित्र है बनारा,
सायोनारा|
५ टी.टी  और दो बीकर तोड़ने की गाथा गर्व से पूरी क्लास को है सुनारा,
सायोनारा|
फिजिक्स लैब में मरकरी कि गोलियाँ है बनरा,
सायोनारा|
वहाँ के इन्सटरूमंट्स तोड़कर, उनके पहले से टूटे होने कि ख़बर सच्चाई से टीचर को है सुनारा,
सायोनारा|
प्रोजक्ट टाइप करने के बहाने पूरा दिन कमप्यूटर लैब में ऐ.सी. के मजे है उड़ारा,
सायोनारा|
मक्खन लगाकर सब टीचर्स का बनना चाह रहा दुलारा और दूसरों के मक्खन लगाने को सहन नहीं कर पारा,
सायोनारा|
स्पोर्ट्स डे की शाम कॉरिडोर में बम्ब है छुड़ारा,
सायोनारा|
और भड़ाम की आवाज आने पर सीना फूलकर दुगना हुआ जारा,
सायोनारा|
एग्जाम टाइम में सब टीचर्स के पैर छूकर जारा,
सायोनारा|
सेकंड क्लास की सीड़ियों से  “ग्रेट वाल पार आफ चाइना” के उस पार है झाँका जारा,
सायोनारा|
स्कूल के अन्दर आने के रास्ते में बड़ा गेट आते ही स्पीड धीमी कर मुंडी है घुमारा,
सायोनारा|
कम्बाइंड स्कूल सैलिब्रैशन के लिए १५ अगस्त का इंतज़ार है किया जारा,
सायोनारा|
इन सब को याद कर बड़ी मुश्किल से हूँ में अश्रुधारा को रोक पारा,
सायोनारा|
सैंट पीटर्स के गलियारों में दिल मेरा हारा,
सायोनारा|
यहाँ है सब टीचर्स का स्नेह और फादर मैथ्यू का प्यार बहुत सारा,
सायोनारा|
यहाँ है मानवता का फव्वारा,
सायोनारा|
यह है मार्गदर्शक हमारा,
सायोनारा|
येह है प्यार का गुलिस्तां हमारा,
सायोनारा|
आज इन सब चीजों को कर रहा हूँ में सायोनारा
सायोनारा, सायोनारा, सायोनारा…
…अलविदा सैंट पीटर्स…

Advertisements

7 Responses

Subscribe to comments with RSS.

  1. Buddy, u made me remember my old days, such a beautiful days, no tension of life, just a headache of not doing homework’s, and invent a new thoughts of bunking my sports free time.
    hats off for you
    cool

    Amit Kalra

    May 3, 2009 at 7:12 pm

    • Thanks yaar,

      So true what you said. In fact whenever I think of those days, I can feel a sudden rush to turn back time. Hope it be possible some day.

      arpitgarg

      May 4, 2009 at 3:51 am

      • yup buddy, we will be able to see the same time back in life, but only with our children eyes, it will surly give smile to our face, by re memorizing our naughty time and ways.

        Amit Kalra

        May 20, 2009 at 7:08 pm

  2. Nice One….

    Babul Bansal

    October 5, 2008 at 9:19 pm

  3. CHHA GAE HUZOOR

    GIRISH BILLORE

    September 25, 2008 at 1:52 pm

  4. मजा आ गया दोस्त… एसा ही होता है..

    Ranjan

    September 25, 2008 at 6:44 am

  5. वाह क्या बात है अर्पित, तुमने तो लिख मारा पूरा स्टूडेंट-रामायण सारा

    रवि

    September 24, 2008 at 10:19 am


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: