ArpitGarg's Weblog

An opinion of the world around me

Posts Tagged ‘touch

This Animal and You

leave a comment »

I sneeze and you skip a breath,
I fall and you shed a tear,
So much good inside you, Stop.
This animal doesn’t deserve the care.

I err and you take the brunt,
I slur and you just listen,
Perplexes me why you are with me,
This animal doesn’t deserve the care.

Your time, you invest in me,
Your life, you trust with me,
I wonder am I worthy of it, no,
This animal doesn’t deserve the care.

When I hold your hand, the chill,
Your touch of assurance, I am still,
Don’t give me belief, wake up,
This animal doesn’t deserve the care.

My anxieties soothen by mere smile,
I am no substance, just style,
Worry you a lot about me, stop,
This animal doesn’t deserve the care.

The fast, the sacrifice you do for me,
That tied string under the banyan tree,
Quarrel with the maker for me, don’t,
This animal doesn’t deserve the care.

The future together, the hope,
I will make it happen, be assured,
Sadness be false, happiness be true,
This animal cares a lot about you.

Written by arpitgarg

October 3, 2011 at 12:16 pm

अंगुलियाँ तेरी

leave a comment »

गुनगुनाती हैं नए तराने,
अहसासों का सैलाब लिए,
कुछ न कहकर सब कह जाती,
तेरी यह जालिम अंगुलियाँ|
 
कमल की कोमल पंखुड़ियां,
छू देती हैं, सिरहन करके,
होने की मेरे करती पुष्टी,
तेरी यह मादक अंगुलियाँ|
 
हाथों में लेकर पुच्के/गुजिया,
ओठों तक तेरे जो पहुंचाती,
कभी आह भरी, कभी चाह भरी,
तेरी यह पूरक अंगुलियाँ|
 
शोभा हीरे की तुझसे है,
जो अंगूठी बनके बैठा है,
हीरे की चमक को चमकाती,
तेरी यह यौवन अंगुलियाँ|
 
जाते में मुझको पकड़ा था,
बाहों में भींच के जकड़ा था,
बालों, कपडों को खींच रही,
तेरी यह गुमसुम अंगुलियाँ|
 
दिन था बुरा, परेशां था में,
सर पर मेरे वो शीतल स्पर्श,
हाथ लगाकर दर्द किया फुर्र,
थकान मिटाती यह अंगुलियाँ|
 
लाल की लाली में डूबीं कभी,
कभी हरियाई हरे की छाई है,
नाखूनों पर छितरे सतरंग से,
इन्द्रधनुष सी तेरी यह अंगुलियाँ|
 
वो बारिश में तले पकोड़े थे,
गरम गरम औ सुरख सुरख,
उनपर एक छाप सी छोड़ गयीं,
तेरी यह पाँचों अंगुलियाँ|
 
साथ साथ थे पकडे हाथ,
तुझे अपना बनाया मैंने था,
पहना के अंगूठी प्रेम की,
मेरी हो गयीं, तेरी अंगुलियाँ||

Written by arpitgarg

June 16, 2011 at 2:43 pm

<span>%d</span> bloggers like this: