ArpitGarg's Weblog

An opinion of the world around me

Posts Tagged ‘poem

Fly, sky high

leave a comment »

o-OPTIMISM-facebook.jpg

When the sun shines light,
With the chirping so sweet,
And the mood is so brigh’
You just wanna fly, sky high.

When there is dew in mornin’
With the moist air so pure,
And zillions of things to try,
You just wanna fly, sky high.

When the breeze is too mild,
With body and mind at peace,
And tensions around are nigh’
You just wanna fly, sky high.

When the rain is a drizzle,
With rainbow at horizon,
Out comes an optimistic cry,
You just wanna fly, sky high.

When night is ever young,
With work to do never done,
Future too bright, O My!
You just wanna fly, sky high.

When time to kill is nilch,
With lots of miles to go,
And going without a sigh,
You just wanna fly, sky high.

When the sun shines light,
With the chirping so sweet,
And the mood is so brigh’
You just wanna fly, sky high.

Written by arpitgarg

May 4, 2017 at 2:01 am

Posted in Literary

Tagged with , ,

एक सौ सोलह चाँद की रातें

with one comment

love_moon

पागलपन सी करती बातें,
आँखें तेरी जैसे झिलमिल,
एक सौ सोलह चाँद की रातें,
एक ये तेरे काँधे का तिल।

पल दो पल की थी मुलाकातें,
उतने में ले गयी मेरा दिल,
एक सौ सोलह चाँद की रातें,
एक ये तेरे काँधे का तिल।

गुस्सा जो तू हो जाती है,
होता मन मेरा तिलमिल,
एक सौ सोलह चाँद की रातें,
एक ये तेरे काँधे का तिल।

दूरी तुझसे बहुत है चुभती,
मरता हूँ मैं जैसे तिलतिल,
एक सौ सोलह चाँद की रातें,
एक ये तेरे काँधे का तिल।

होती तुझसे २-४ जो बातें,
हँस देता मैं एकदम खिलखिल,
एक सौ सोलह चाँद की रातें,
एक ये तेरे काँधे का तिल।

तू ही सुबह है तू ही शाम,
जीवन तुझसे गया है सिल,
एक सौ सोलह चाँद की रातें,
एक ये तेरे काँधे का तिल।

रात दिन ख्याल तेरा बस,
आरम्भ है तू, तू ही मंजिल,
एक सौ सोलह चाँद की रातें,
एक ये तेरे काँधे का तिल।।

Written by arpitgarg

June 11, 2016 at 10:50 pm

Posted in Hindi, Love, Poetry

Tagged with , ,

माशाअल्ला

leave a comment »

beautiful.jpg

नयनों में सुरमा लगाए जब,
तीर सा कुछ चल जाता है,
बढ़ती है धड़कन दिल की,
तू लगती है माशाअल्ला।

लाली ओठों की कुछ ऐसी,
मादक मंद मुस्काती है,
सांस मेरी थम जाती है,
तू लगती है माशाअल्ला।

हिरनी जैसी चाल तेरी जो,
करती मौसम अस्त व्यस्त,
मैं भँवरा बन मंडराता हूँ,
तू लगती है माशाअल्ला।

काले घने जब केश तेरे,
बन बादल घिर आते हैं,
लगता जैसे सावन आया,
तू लगती है माशाअल्ला।

माथे मुख पे श्रृंगार तेरा,
आभा एक झलकती है,
हो मंत्रमुग्ध मैं बस देखूं,
तू लगती है माशाअल्ला।

हाथ में जो कंगन डाले,
खन-खन खनक जाते हैं,
अंतर्मन मधुर ध्वनी चहके,
तू लगती है माशाअल्ला।

सौंदर्य से भी कुछ ज्यादा,
है मन में मेरे अक्स तेरा,
बंद आँखों से दिख जाता है,
तू लगती है माशाअल्ला।।

Written by arpitgarg

May 6, 2016 at 3:14 pm

Posted in Hindi, Love, Poetry

Tagged with , , , ,

कोई आस है वापस आने की

with 3 comments

hope.jpg

एक दर्द दबाए बैठा हूँ,
सीने में चुभन सी होती है,
दूर तेरे चले जाने की,
कोई आस है वापस आने की?

एक तूफ़ान समाये बैठा हूँ,
मन में उफ़न सी होती है,
श्रृंगार की बेला जाने की,
कोई आस है वापस आने की?

एक राज छुपाए बैठा हूँ,
ओठों पे कशिश सी होती है,
क्षितिज पार न देख पाने की,
कोई आस है वापस आने की?

एक आह समेटे बैठा हूँ,
आँखों में टीस सी होती है,
झर-झर मोती बह जाने की,
कोई आस है वापस आने की?

एक स्वप्न संजोए बैठा हूँ,
रातों को करवटें होती हैं,
नींद मेरी खुल जाने की,
कोई आस है वापस आने की?

एक आग लगाए बैठा हूँ,
हर अंग तपन सी होती है,
भस्म इसमें हो जाने की,
कोई आस है वापस आने की?

एक सांस को थामे बैठा हूँ,
भीतर से घुटन सी होती है,
ईश्वर से जा मिल जाने की,
कोई आस है वापस आने की?

Written by arpitgarg

April 26, 2016 at 10:12 am

Posted in Hindi, Love, Poetry

Tagged with , , , ,

हाँ तू ही है

leave a comment »

tu-hi-toh-hai.jpg

सपने में रात जो आती है,
हर दिन मेरी नींद चुराती है,
सताए मुझे, जाने कौन है वो,
तू ही तो है, हाँ तू ही है।

इठलाती है, शर्माती है,
औ मंद मंद मुस्काती है,
मचलाए मुझे, जाने कौन है वो,
तू ही तो है, हाँ तू ही है।

लाल गाल औ मस्त चाल,
बन्दर मन होता, डाल डाल,
बहकाए मुझे, जाने कौन है वो,
तू ही तो है, हाँ तू ही है।

लड़ती है और लड़ाती है,
पूरे घर को सर पे उठाती है,
गुस्साए मुझे, जाने कौन है वो,
तू ही तो है, हाँ तू ही है।

मेरे ख़ुशी में झूमती मस्त,
दुःख में बंधाती ठांठस है,
समझाए मुझे, जाने कौन है वो,
तू ही तो है, हाँ तू ही है।

बचपने में साथ मेरा जो दे,
सारा शहर रंगे वो संग मिल के,
साथ है जो, जाने कौन है वो,
तू ही तो है, हाँ तू ही है।

रोज के सूखे जीवन में,
धूमिल न वो हो जाये कहीं,
महसूस मुझे, जाने कौन है वो,
तू ही तो है, हाँ तू ही है।

Written by arpitgarg

April 14, 2016 at 3:04 pm

Posted in Hindi, Prose

Tagged with , , ,

ढाई किलो आलू और प्याज

leave a comment »

aloo_pyaaj

भूख लगी मुझे आधी रात को,
सोचा रसोई में रखा हो कुछ,
नहीं मिला कुछ, पड़ा था बस,
ढाई किलो आलू और प्याज।

नींद भी थी और भूख भी थी,
कुछ मिल जाए जल्दी से बस,
पेट की आग बुझाएं कैसे ये,
ढाई किलो आलू और प्याज।

कुकर चढ़ाने को हुआ जो मैं,
देखा कि थी सीटी नदारद,
खाना नहीं मिल पायेगा आज,
ढाई किलो आलू और प्याज।

छीलूं कैसे अब आलू को मैं,
चाकू कहीं जो मुझे न मिलता,
थक गए पेट के चूहे भी नाच,
ढाई किलो आलू और प्याज।

कच्ची प्याज ही खा जाऊं क्या?
ऊपर से पी पानी भर गिलास,
इस व्यंजन पर मुझे नहीं है नाज,
ढाई किलो आलू और प्याज।

बनाऊं दो प्याज़ा या आलू दम,
भूख नहीं दिख रही होती कम,
कुछ है गड़बड़, गहरा है राज,
ढाई किलो आलू और प्याज।

मुहँ में पानी, महक और स्वाद,
मेरे अंदर का भुक्कड़ मुखर,
सपने भी आते खाने के अब,
ढाई किलो आलू और प्याज।

Written by arpitgarg

February 21, 2016 at 2:40 am

Posted in Hindi, Poetry

Tagged with , , , , ,

पूछो तो बतला दूँ मैं

with 2 comments

love_cry

घुट घुट कर के जीना जैसे,
छुप छुप कर के रोना है,
पा कर सबकुछ खोना क्या?
पूछो तो बतला दूँ मैं।

आहट की राहत है क्या,
उसके चौखट पे आने की,
आँखों पे नमी की चादर क्यों?
पूछो तो बतला दूँ मैं।

बदल करवटें कटती रतियाँ,
पलछिन, लगे जैसे सदियाँ,
आवाज क्यों अटकी हलक तले?
पूछो तो बतला दूँ मैं।

खोजा तुझे मैंने कहाँ कहाँ,
बनके फ़कीर माँगा करता,
दिल बन पत्थर टूटा कैसे?
पूछो तो बतला दूँ मैं।

मैं सिसक सिसक के रोया हूँ,
पर आसूँ न आने दिए कभी,
क्या कसम तेरी मैं खा बैठा?
पूछो तो बतला दूँ मैं।

न दवा मिले, न दुआ सरे,
अंतर्मन अलग ही सुलग रहा,
है दर्द भरा क्या मन में मेरे?
पूछो तो बतला दूँ मैं।

शून्य को बैठा रहा ताक,
नापाक हुआ, न रहा पाक,
जो मन में दबाये बैठा हूँ,
पूछो तो बतला दूँ मैं।

Written by arpitgarg

February 19, 2016 at 1:53 am

Posted in Hindi, Love, Poetry

Tagged with , , ,

%d bloggers like this: