ArpitGarg's Weblog

An opinion of the world around me

Posts Tagged ‘bapu

देश मेरे देश मेरे

with 4 comments

आजादी की सौंधी खुशबू,
जब नथुनों में भर आती है,
सर उठाकर जीने की,
तब आदत सी हो जाती है|

संघर्ष किया था जब सबने,
वो साल पुराना लगता है,
खून बहाया था जिसने,
वो भाई बेगाना लगता है|

बापू की तस्वीर पर,
बस फूल चड़ाए जाते हैं,
१०% कमीशन पर,
सब काम कराये जाते हैं|

आजादी बोले कुछ, तू सुन,
६३ साल की हो गयी हूँ में,
अब मुझमें वैसी बात नहीं,
मेरे बूढ़े कन्धों में अब,
पहले जैसी जान नहीं|

मेरे बच्चों अब तुम पर है,
की देश का आगे क्या कुछ हो,
अपने सपने तुम खुद देखो,
तुम खुद ही उन्हें साकार करो|

हे माँ तू ऐसा क्यों बोले,
तूने तो बहुत कुछ है दिया,
हिम्मत, सोच और इज्जत का,
जीवन में हमारे प्रकाश किया|

महनत करेंगे सब मिलकर,
देश को आगे ले जायेंगे,
ज़रुरत पड़ी तो फिर एक बार,
हम अपना लहू बहाएंगे|

देश मेरे देश मेरे,
तू ही मेरा तीर्थ है,
तू ही मेरे चारों धाम,
मैं जी लूँगा फिर और कभी,
इस बार करी जां तेरे नाम|

Written by arpitgarg

December 7, 2010 at 12:00 am

Good Morning Mumbai…

with one comment

Every time I read this, I feel relieved. Wonderful dialogue.

Good Moooorrrninggggg!! Mumbai!
This is Jhanvi on World Space Radio

जाने से पहले ये है मेरा आज का ख्याल,
उन सब के लिए जो दौड़े जा रहे हैं शहर में|

शहर की इस दौड़ में दौड़ के करना क्या है?
गर यही जीना है दोस्तों, तो फिर मरना क्या है?

पहली बारिश में ट्रेन लेट होने की फ़िक्र है,
भूल गए भीगते हुए टहलना क्या है?

सिरिअल्स के किरदारों का सारा हाल है मालूम,
पर माँ का हाल पूछने की फुर्सत कहाँ है?

अब रेत पे  नंगे पाँव टहलते क्यूँ नही?
१०८ है चैनल, पर दिल बहलते क्यूँ नही?

इंटरनेट पे दुनिया से तो टच में हैं,
लेकिन पड़ोस में कौन रहता है, जानते तक नही|

मोबाइल, लैंडलाइन, सब की भरमार है,
लेकिन जिगरी दोस्त तक पहुंचे, ऐसे तार कहाँ है?

कब डूबते हुए सूरज को देखा था, याद है?
कब जाना था शाम का गुज़रना क्या है?

तो दोस्तों शहर की इस दौड़ में दौड़ के करना क्या है|
गर यही जीना है, तो फिर मरना क्या है?

So good bye Mumbai. मेरा bye-bye बोलने का वक़्त आ गया है

उम्मीद है आप से कल फिर मुलाकात होगी
यहीं पर, इसी समय,

Friends till then don’t worry, be happy, saionara!

और हाँ! याद रखना कल दो अक्टूबर है
And we are having Mahatma quiz contest

जो भी ये quiz जीतेगा, वो होगा मेरा special guest
Yes! उसे में studio में invite करूंगी और उससे करूंगी ढेर सारी बातें

So bye bye and dont forget to tune in tomorrow at 9

Written by arpitgarg

October 14, 2008 at 12:08 pm

%d bloggers like this: