ArpitGarg's Weblog

An opinion of the world around me

Posts Tagged ‘Poetry

धूमिल शाम वो

with 4 comments

love.jpg

थकी हुई सी शाम थी वो,
जब देखा था तुझको मैंने,
पागल सी, झबराई थी,
पर मेरे मन को भाई थी।

बात बात में गुस्सा होना,
कभी पूरा, या आधा पौना,
हर लहजे में तेरे लड़ाई थी,
पर मेरे मन को भाई थी।

आँखों में डाल आँखें मैंने,
जब दिल की बात बताई थी,
तू जरा भी ना शर्मायी थी,
पर मेरे मन को भाई थी।

पागलपन औ सनकपन में,
अपनी ही लत, अपनी ही हट.
दिमाग की तूने हटाई थी,
पर मेरे मन को भाई थी।

रोते रोते, हँसते हँसते,
आस पास, कभी दूर-दूर,
परेड मेरी करवाई थी,
पर मेरे मन को भाई थी।

हाँ ना में औ ना हाँ में,
कभी सुलझन, कभी उलझन,
सांसें मेरी अँटकायी थी,
पर मेरे मन को भाई थी।

राह कठिन, चाह अडिग,
कट ही गया, काफी रस्ता,
भूला ना धूमिल शाम वो मैं,
जब मेरे मन को भाई थी।।

Advertisements

Written by arpitgarg

November 30, 2016 at 2:57 pm

Posted in Love, Uncategorized

Tagged with , , ,

नींद ना आई सारी रात

leave a comment »

insomnia

दीदारे यार कुछ ऐसा हुआ,
फ़िज़ा में छायी कुछ ऐसी बात,
औ चाँद की चांदनी अजीब,
मुझे नींद ना आई सारी रात।

छन छन के रौशनी जो आई,
तेरे मुख को छूकर जाने को,
हिमाकत ये न करी मैंने रास,
मुझे नींद ना आई सारी रात।

भौंरा तभी देखा खिड़की पे,
चीरता हुआ रात का सन्नाटा,
किया रवाना समझाकर उसे,
मुझे नींद ना आई सारी रात।

बिजली चली गयी, हवा बंद,
तेरे माथे पे पसीना आ बैठा,
सिरहाने तेरे करता रहा हवा,
मुझे नींद ना आई सारी रात।

कोशिश सोने की कई बार करी,
पर तुझसे नज़र न मेरी हटी,
देखता रहा तुझे, थाम तेरा हाथ,
मुझे नींद ना आई सारी रात||

Written by arpitgarg

March 6, 2016 at 11:19 pm

Posted in Hindi, Poetry

Tagged with , ,

प्यार नहीं तो कुछ भी नहीं

leave a comment »

love.jpg

सुना बहुत था, जाना नहीं,
यह एहसास होता बड़ा हसीं,
लगा था बस कहकहा यही,
प्यार नहीं तो कुछ भी नहीं।

हम जीते हैं औ मरते हैं,
जीवन हैं क्यों यह नहीं पता,
मरने से पहले हो एक बार,
प्यार नहीं तो कुछ भी नहीं।

कभी बातों बातों में हो जाता है,
कभी सर्द रातों में हो जाता है,
होता है तब कहता है दिल,
प्यार नहीं तो कुछ भी नहीं।

जो लगते थे खंडर उजाड़,
उनमें रंग जैसे भर जाते हैं,
औ हमसे यह कह जाते हैं,
प्यार नहीं तो कुछ भी नहीं।

समय थम सा कुछ जाता है,
पल सब पल-छिन हो जाते हैं,
हर टिक टिक बस यही सन्देश,
प्यार नहीं तो कुछ भी नहीं।

हर सपने सच्चे लगते हैं,
बेगाने भी अपने लगते हैं,
खुद बचा मर ना जाऊं कहीं,
प्यार नहीं तो कुछ भी नहीं।

पर क्या यह सब सच्चा है?
या पल भर का एक गच्चा है?
पता चलता सबको है खुद ही,
प्यार नहीं तो कुछ भी नहीं।।

Written by arpitgarg

November 25, 2015 at 8:06 pm

Posted in Hindi, Love, Poetry

Tagged with , ,

Five days a week

leave a comment »

Wake up morning aimless,
News and shit, lameness,
Often it plays, hide n seek,
I do this, Five days a week.

Jog and sweat, calmness,
Shower and clean, freshness,
Jazz a bit, hair and cheek,
I do this, Five days a week.

Milk and Cereal, Munching,
Fruits a few, pack lunching,
Sometimes salad, fresh Greek,
I do this, Five days a week.

Stroll to office, oh so slow,
Some hot, some cold, I blow,
To my seat, I quickly sneak,
I do this, Five days a week.

Login password, old routine,
Workspace, always find clean,
Keep sitting, till take a leak,
I do this, Five days a week.

Lunch time here, off I go,
Eat together, all my bro,
Bitch, snitch, plotting reek,
I do this, Five days a week.

By the evening, left no thrill,
Not got enough time to kill,
Next day feels equally bleak,
I do this, Five days a week.

Written by arpitgarg

October 20, 2015 at 6:08 pm

Posted in Office, Poetry

Tagged with , , ,

पगली की याद

with 2 comments

क्या तुमने मुझको याद किया,
जब तूने मुझसे पुछा उस दिन,
क्यों बोलूं झूठ, न याद किया,
पगली याद करूँ गर भूलूँ मैं।

बात कभी अब तुम न करते,
लगता है मुझसे ऊब गए हो,
ऊबने की बात है कहाँ से आई,
पगली दिलचस्पी पूरी ले तो लूँ।

मिलने को बुलाती, तुम न आते,
हर पल बस दूर ही भागे जाते,
अपनी दूरी कैसे बढ़ सकती है,
पगली पास तो पूरा आ जाऊं।

सुनते ही नहीं, मैं बड़-२ करती,
बिलकुल भी मुझपे ध्यान नहीं,
अरे सोचूँ मैं कुछ और तो तब,
पगली ध्यान से पहले हटे तो तू।

सजके सँवरके आई थी मैं,
एक स्वर भी प्रशंसा नहीं करी,
कितनी मैं करूँ तारीफ तेरी,
पगली हर रोज परी है लगती तू।

व्रत था तुम्हारे लिए रखना,
डांट के तुमने मना किया क्यों,
तू सुनती मेरी क्या डांट बिना,
पगली तुझे भूखा कैसे देख सकूँ।

क्या तुमने मुझको याद किया,
जब तूने मुझसे पुछा उस दिन,
क्यों बोलूं झूठ, न याद किया,
पगली याद करूँ गर भूलूँ मैं।।

Written by arpitgarg

September 25, 2014 at 10:41 pm

Posted in Hindi, Love, Poetry

Tagged with , ,

वो रात

leave a comment »

बहुत दिनों चली आंखों-२ में बात,
आज हो गयी सच में मुलाक़ात,
बहाने मिले, न ढूँढने पड़े,
तभी थे आमने सामने खड़े।

वो आई कपड़े पहनकर गुलाबी,
उसके कजरारे नैन लग रहे शराबी,
बड़ी मासूमियत से मुखवाणी निकाली,
है उसकी जुल्फें या घटा काली-काली।

आज लग रही वो सम्पूर्ण नारी,
पांडू के बाद हाय मेरी मती हारी,
कामदेव का बाण चल ही गया,
सारा संसार लगने लगा नया।

होने लगी पुष्प की वर्षा,
बजने लगी प्रेम की त्रिवेणी,
इतने दिनों का इंतज़ार,
कर रहा था हमें जार-जार।

लगा था जैसे बीती हों सदियाँ,
बहने दो आज स्नेह की नदियाँ
बंधे सारे तार, झुके सारे नैन,
दिल को करार औ हृदय को चैन।

दो जिस्म एक हो ही गए,
दोनों के नयन भी एक हुए,
उसके गाल पर काला तिल,
बन ही गया हमारा दिल।।

Written by arpitgarg

September 10, 2014 at 5:38 pm

Posted in Hindi, Poetry

Tagged with , , , ,

अगले जनम

leave a comment »

झटक हाथ तेरा चल दिया,
अकेला तुझे छोड़ कर,
जीता हूँ अब इसी भरम,
अगले जनम हो पूरी कसम।

गलती नहीं की मैंने कोई,
शायद ईश्वर की थी मर्जी,
इस जीवन रहा अधूरा करम,
अगले जनम हो पूरी कसम।

समय से न कोई जीत सका,
मैं भी ठहरा बस हाड मांस,
न बदले सच, कर-२ परिश्रम,
अगले जनम हो पूरी कसम।

बेगाना तुझे बनाकर रोता हूँ,
दिन रात आंसू पी पीकर,
तुझे अपना कहा बिना शरम,
अगले जनम हो पूरी कसम।

कुछ ज्यादा ही मजबूर हूँ मैं,
अपने फंदों में फंसा हुआ,
जो मैंने किया वो मेरा धरम,
अगले जनम हो पूरी कसम।

रात ढली कुछ काली ये,
आगे कुछ न दिख रहा अभी,
कठिन डगर, न पड़ तू नरम,
अगले जनम हो पूरी कसम।

बस दुआ यही मैं करता हूँ,
खुशहाल रहे तेरा जीवन,
रह गयी अधूरी जो इस जनम,
अगले जनम हो पूरी कसम।।

Written by arpitgarg

September 8, 2014 at 1:31 am

Posted in Hindi, Love, Poetry

Tagged with , , , ,

%d bloggers like this: