ArpitGarg's Weblog

An opinion of the world around me

Posts Tagged ‘paadam

Chatur Speech in Hindi: 3 Idiots

with 10 comments

आदरणीय सभापति महोदय, अतिथि विशेष शिक्षण मंत्री श्री आर. डी. त्रिपति [त्रिपाठी] जी, माननीय शिक्षकगण और मेरे पियारे [प्यारे] सहपतियो [सहपाठियों]| आज अगर I.C.E आसमान की बुलांदियो [बुलंदियों] को छू राहा [रहा] है, तो उसका श्रेय सिर्रफ [सिर्फ] एकिंसान [एक इंसान] को जाता है, श्री वीरू सहस्त्र बुद्धे| Give him a a big hand . He is a great guy really .

पिछले बत्तीस साल से इन्होने निरंतर इस कॉलेज में बलत्कार [बलात्कार] पे बलत्कार किये, उम्मीद है आगे बी [भी] करते रहेगे [रहेंगे ]| हमें तो आश्चर्य होता है कि एक इंसान अपने जीवन काल में इतनी बलत्कार कैसी कर सकता है| इन्होने कड़ी तपस्या से अपने आपको इस काबिल बुनाया [बनाया ] है| वक़्त का सही उपयोग, घंटे का पूर्ण इस्तेमाल कोई इनसे सीके [सीखे ]| सीके, इनसे सीके| आज हम सब छात्र यहाँ हैं, कल देश-विदेश में फेल [फैल] जायेंगे| वादा है आपसे जिस देश में होंगे वहां बलत्कार करेंगे| I.C.E का नाम रोशन करेंगे| दिका [दिखा] देंगे सबको जो बलत्कार करने की शमता यहाँ के छात्रों में है वो संसार के किसी छात्रों में नहीं| No other छात्र,  No other छात्र|

आदरणीय मंत्रीजी नमस्कार, आपने इस संस्थान को वो चीस [चीज़] दी जिसकी हमें सख्त ज़रुरत थी| स्तन! स्तन होता सबी [सभी] के पास है, सब छुपा के रकते है, देता कोई नई [नहीं]| आपने अपना स्तन इस बलत्कारी पुरुष के हाथ में दिया है| अब देकिये यह कैसा इसका उपयोग करता है|

इस स्वर्ण अवसर पर एक श्लोक याद आ रहे है…

उत्तमम दधददात पादम,
मध्यम पादम थुचुक थुचुक,
घनिष्ठः थुड़थुडी पादम,
सुरसुरी प्राण घातकम|

Written by arpitgarg

January 7, 2010 at 3:12 pm

%d bloggers like this: