ArpitGarg's Weblog

An opinion of the world around me

जीवन: कठिन या आसान

with one comment

कभी ऐसा महसूस हुआ है की हम अकेले नहीं है| कोई है हमारे आस पास जो हमें देख सकता है, हमें महसूस कर सकता है| कभी ऐसा नहीं लगता कि जो हमारे साथ हो रहा है वह पहले भी हो चुका है| ऐसा नहीं लगता की हमारी जिंदगी हमारी होते हुए भी हमारी नहीं| अपनी किस्मत पर हमारा कुछ अधिकार नहीं| हम अपनी मर्ज़ी से पैदा भी नहीं हो सकते| हाँ मर ज़रूर अपनी मर्ज़ी से सकते हैं, जब चाहें तब| मतलब यह हुआ की हम अपने लिए अपनी मर्ज़ी से कुछ अच्छा नहीं कर सकते| हाँ बुरा ज़रूर कर सकते हैं, जब चाहें तब|

जब भी में आइना देखता हूँ, मुझे उसके अन्दर एक दूसरी दुनिया दिखाई देती है| मैं ख़ुद को कैद पाता हूँ| पता नहीं उस दुनिया का कैदी हूँ या इस दुनिया का| वह दुनिया असली है या यह दुनिया| मैं अपना अक्स देख रहा होता हूँ या में ख़ुद किसी और का अक्स हूँ|

जब कभी रात को में डरावना सपना देखता हूँ और अचानक नींद खुल जाती है, तब भी मुझे डर क्यों लगता रहता है| अरे वह तो सपना मात्र था, डर कैसा| पर नहीं, मुझे डर लगा रहता है, जब तक कि दोबारा नींद नहीं आ जाती| तो वह डर किसका था, डरावने सपने का या डरावना सपना टूट जाने का| कहीं हमारी जिंदगी दोहरी तो नहीं| हम सपना देख रहे होते हैं या हम ख़ुद किसी और का सपना हैं|

रात को अकेले आसमान की तरफ़ देखा है कभी| मिलाईं हैं कभी आसमान की आंखों में आँखें| टिमटिमाते तारों को देखकर सोचा है कभी, की उनमे से किसी तारे के इर्द गिर्द भी कोई दुनिया होगी| जब हम तारे को देख रहे होते हैं, तब क्या पता उस तारे के किसी ग्रह से हमारा ही अक्स हमें देख रहा हो| वह भी हमारी तरह आसमान को घूर रहा हो|

कौन है वह जो ना होते हुए भी है, क्या वह ही आत्मा है| या वह जीवित है और हम एक आत्मा हैं| आख़िर क्या है सच| क्या आईने में हमारा अक्स हमसे कुछ कह चाह रहा है या वह दूसरे ग्रह वाला शायद या फिर हमारा सपना, हमें कुछ बताना चाहता हो|

जिंदगी कितनी आसान हो जाती है ना, अगर इन सब बातों के बारे में सोचो ही मत| अगर है भी कोई अकेले में, तो अब तक क्यों नहीं आया सामने| अगर अब तक नहीं आया है, तो अब क्या आएगा| आईने में कोई भी दुनिया हो, अगर वह हमें डराती है, तो तोड़ दो ऐसे आईने| मत चिंता करो, दूसरा ग्रह हमसे बहुत दूर है| कोई वहां से चिल्लाएगा भी, तब भी सुनाई नहीं देगा|

उन चीज़ों के बारे में सोचना ही क्या, जिसके बारे में हम कुछ कर ही नहीं सकते| जिंदगी को बेकार में ही, और कठिन क्यों बनाएं|

Advertisements

Written by arpitgarg

December 4, 2008 at 11:37 am

Posted in Hindi, Prose

Tagged with , , , , , , , ,

One Response

Subscribe to comments with RSS.

  1. Yaar ye post tumne bekaar nahi likhi hai – lekin last line mein aise doubts zaroor hue hain tumhein aisa lag raha hai – Haan kabhi kabhi lagta hai shaayad ye zindagi sach nahi hai – aur kabhi kabhi mann chaahta hai ki ye zindagi sapna ho, aur hum uthhein aur isse bhula dein….

    Sarang

    March 17, 2009 at 6:16 pm


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: