ArpitGarg's Weblog

An opinion of the world around me

Posts Tagged ‘khwaab

कौन है तू

leave a comment »

रात को आग़ोश में लेने दो,
सुबह को ख्वाब ही रहने दो,
ऐ यार तेरे खुमार में हूँ,
मुझे इस प्यार में डूबा रहने दो|
 
भूख प्यास कोई ना लगती,
सुनता था तो हँसता था में,
पर भूख मरी, जब प्यास मरी जब,
हर पल आहें भरता था में|
 
आँख बचाकर, आँख मिलाना,
अहसासों पर काबू पाना,
सुनने में  ही लगता है,
पर होता नहीं है आसां ये|
 
नींद गयी है, चैन गया है,
तारों की गिनती करता हूँ,
सुबह को कैसे उठ जाऊं में,
रात को सोता कौन सा हूँ|
 
वो पल्लू जो पहिये में अटक गया,
मेरा मन भी उसमें लिपटा  था,
तूने जो फाड़ के फैंका था,
पत्र नहीं वो, दिल था मेरा|
 
माना, किस्मत मेरी खोत्ती है,
पर ज्यादा गुलामी ना होती है,
हाँ कर देगी तो मेरी है,
ना कर दे जो, मर्ज़ी तेरी|
 जीवन का पहिया चलता है,
आगे को, बस आगे को|
 
हसीन सा ख्व़ाब, तू आयी थी,
पर नींद तो टूट ही जाती है,
ओर दिल भी जुड़ ही जाता है,
होगा, किस्मत को जो है मंज़ूर,
कौन हूँ में, कौन है तू ||
Advertisements

Written by arpitgarg

May 11, 2011 at 7:41 pm

Laluisms and Indian Railways

with one comment

Lalu Prasad Yadav’s railway budgets used to be special. He started a trend of sorts with rhymes in his speech. It takes an orator in command for the words to take effect. Not everyone would have had the same effect. The rhymes themselves were not a random phenomenon. They reflected the state of affairs of Railways. The Mood. I try to put together few such rhymes in accordance with the changing Railways each year. Could be easily divided into three phases.

1. Phase I: The Beginning
When Lalu got hold of ministry, it was in shambles and Lauisms in the initial budgets reflected that.

There was hope of building a new future. Hard labor was needed to fulfill the dream.
                “मैंने देखे हैं सारे ख्वाब नए,
                  लिख रहा हूँ मैं इंक़लाब नए”
                “मेरे जुनूं का नतीजा ज़रूर निकलेगा,
                  इसी सियाह समंदर से नूर निकलेगा”

There was a tough path ahead. Help of every individual was needed to overcome the hurdles.
                “जीवन के हर पथ पर माली पुष्प नहीं बिखराता है,
                  प्रगति का पथ अक्सर पथरीला ही होता है”
                “एक कदम  हम  बढे, एक कदम तुम,
                  आओ  मिलकर नाप दे, फासले चाँद तक”

Overall it laid expectations from the future.

2. Phase II: The Delivery
During his later budgets he stood on solid performance and growth. Hope gave way to conviction.

We have come so far by a collective effort. We have redefined success.
                “नवाजिश है सबकी, कर्म है सभी का,
                  बड़े  फ़ख्र से हम बुलंदी पर आये|
                  तरक्की के सारे मयारों  से आगे,
                  नए ढंग लाये, नयी सोच लाये”

Charges were not increased amidst the inflation. We came good on our promises. Wait for more.
                “दौर-ऐ-महंगाई में भी रेल सस्ती रखी,
                  पर कमाई में कोई कमी न रखी”
                “जितना अब तक देख चुके हो, ये तो बस शुरुआत है,
                  खेल तमाशा आगे देखो, दरियादिल सौदागर का”

Overall mood migrated from hope to conviction of delivery.

3. Phase III: The Continuance
His last budgets were more of a commentary of his achievements. Election budget!

                “गोल पर गोल दाग रहे हैं, हम हर मैच में,
                  देश का बच्चा बच्चा बोले, चक दे रेलवे”

He summed up his achievements. What had been done in his tenure will help reap benefits in the long term. We have just planted a tree. Everyone will grow with it. Commitment to duty.
                “सब कह रहे हैं हमने गज़ब काम किया है,
                  करोड़ों का मुनाफा हर एक शाम दिया है,
                  फल सालों यह अब देगा, पौधा जो लगाया है,
                  सेवा का, समर्पण का, हर फ़र्ज़ निभाया है”

Overall mood was of letting people know of what was delivered. Of coming good on the promises. One more chance, perhaps!

%d bloggers like this: